अंडे के फायदे नुकसान तथा उसमें पाये जाने वाले पोषक तत्व

 

अंडा के फायदे नुकसान तथा उसमें पाये जाने वाले पोषक तत्व तथा खनिज पदार्थ

 

अंडा एक ऐसा चीज़ जो केवल छोटा ही होता है पर इसके फायदे के बारे में आप जानकार हैरान हो जाओगे. यह हमको मुर्गी या बतख से प्राप्त होता है।एक मुर्गी या बतख एक दिन में 2-3 अंडे देती हैं. इनका पालन बड़े स्तरों पर किया जाता है.

अंडे के फायदे तथा नुकसान In Hindi ,Egg Benefits in hindi
अंडे के फायदे
 अंडा एक ऐसी कमाल की चीज़ है जिसमे हर प्रकार की पोषक तत्व विटामिन,प्रोटीन,कैल्सियम और अन्य प्रकार की फायदेमन्द चीज़े पाई जाती है,जो हमारे शरीर के लिये काफी अच्छी होती है .

अंडे में पाए जाने वाले पोषक तत्व

अंडे में  कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते है जैसे- प्रोटीन,कैल्सियम ,ओमेगा 3 फैटी एसिड, अमीनो एसिड ,विटामिन ए,विटामिन बी 12,विटामिन डी और विटामिन ए पाया जाता है. इसके अलावा इसमें सेलेनियम ,कोलिन और अन्य खनिजो से भरपूर्ण है.

  • फास्फोरस-205.मिग्रा
  • कैल्सियम-54.00मिग्रा
  • लोहा-2.30मिग्रा
  • तांबा-0.03मिग्रा
  • मैंगनीज़-0.005-0.025मिग्रा
  • पोटेशियम-1.29मिग्रा
  • कोलिन-149मिग्रा
  • गंधक-173मिग्रा
  • मैंगनीशियम-11.00मिग्रा
  • सोडियम-122मिग्रा
  • कार्बोहाइड्रेट-3.59 ग्राम
  • वसा-26.54 ग्राम
  • जस्ता-2.30मिग्रा

अंडे की कार्यात्मक विशेषताए:

अंडे के फायदे आँखों के लिये

अंडा ल्युटिन तथा जकसैथिन का अच्छा स्रोत है.यह आँखों में धब्बे तथा मोतियाबिंद जैसी समस्याओं को कम करने में मदद करता है. और हमारी रोशनी को भी घटने से बचाता है.

गर्भावस्था में अंडे का सेवन है लाभकारी

अंडे में कोलिन पाया जाता है,जो की एक अच्छा पोषक तत्व है. कोलिन, माँ की गर्भ में पल रहे बच्चे के मस्तिष्क के विकास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. लेकिन गर्भावस्था अवस्था में औरतो को आधा उबले हुए तथा कच्चे अंडे का उपयोग नहीं करना चाहिए.

अंडे का मांसपेशियों के निर्माण में योगदान

अंडे में  प्रोटीन की मात्रा बहुत ही अधिक पाई जाती है. इसके सफ़ेद भाग में एल्ब्युमिन नाम का प्रोटीन पाया जाता है. यह एल्ब्युमिन प्रोटीन हमारे शरीर में अधिक मात्रा में प्रोटीन को अवशोषण करने के लिए प्रोत्साहित करता है,जिससे यह मांसपेशियों की बृद्धि में काफी अच्छा होता है.

अंडा बनाता है हमारी हड्डियों को मजबूत

अंडे में कैल्सियम,फास्फोरस तथा विटामिन डी अधिक मात्रा में पाया जाता है, जो हड्डियों को मजबूत करने के लिए काफी अच्छा होता है. कैल्सियम हड्डियों को मजबूत रखने का काम करता है तथा विटामिन डी तथा फास्फोरस उसके साथ मिलकर हड्डियों को बढ़ावा देने में सहायक होता है. विटामिन डी हड्डियों को पीले पन से भी बचाता है.

अंडा कैंसर से भी लड़ने में मदत करता है

अंडा हमारे शरीर को कैंसर से भी लड़ने में काफी हद तक मदत करता है. अंडे में दो एमिनो एसिड ट्रिप्टोफैन तथा टायरोसीन पाये जाते हैं, जिनमे एंटीऑक्सीडेंट्स के गुण होते है ,जो कैंसर के विकास को रोकने तथा ह्रदय रोग को भी कम करने में मदत करते है.

एक अध्यन के अनुसार जो ब्यक्ति अंडे का सेवन करता है ,उसे 24% तक कैंसर होने का खतरा कम हो जाता है.

अंडे का फायदा बालों के लिए

कच्चे अंडे को आपने कभी -किसी को पीते हुए देखा जरूर होगा पर ऐसा बहुत ही काम लोग कर पाते है. अंडे में प्रोटीन के मात्रा अधिक होती है, और हमारे शरीर के बाल भी प्रोटीन से ही बने होते है . जिससे कच्चे अंडे को पीने या बालो में लगाने से बाल जल्दी से बढ़ने लगते है.

अंडे का पीला भाग (जर्दी)

अंडे के पीले भाग को जर्दी को एल्ब्युमेन भी कहते है. इसमें विटामिन व् खनिज तत्वों की भरपूर्ण मात्रा होती है. इसमें 60 कैलोरी ऊर्जा होती है,जो की अंडे के सफ़ेद भाग की तीन गुना है. अंडे के जर्दी में कोलेस्ट्रॉल भी पाया जाता है.
अगर आप डायविटीज या ह्रदय रोग के मरीज है तो अंडे का पीला वाला भाग न ही खाए तो बेहतर होगा,क्योंकि इसमें पाया जाने वाला कोलेस्ट्रॉल आपको नुकसान पंहुचा देगा. यदि आप सोचते है कि अंडे के पीले भाग को खाने से वजन घटता है तो यह बिलकुल गलत है.

अंडे खाने के नुकसान

1.अगर आप डायबिटीज़ या ह्रदय रोग के मरीज है तो आपको अंडा बिलकुल नहीं खाना चाहिए,क्योंकि इसमें कोलेस्ट्रॉल पाया जाता है जो आपको नुकसान पहुंचा देगा.
2.बहुत लोगो में अंडे की जर्दी से एलर्जी होती है, जिससे त्वचासूजन,उल्टी,घबराहट,दस्त,मतली आदि का सामना करना पड़ सकता है.
3.अंडे के सफ़ेद भाग को खाने से आपके शरीर में बायोटिन नामक विटामिन की कमी हो जाती है,जिससे आपको त्वचा रोग या बालो की झड़ने की समस्यों का सामना करना पड़ सकता है.
4. अगर आप अधिक मात्रा में अंडे का सेवन करते है तो आपके शरीर में अधिक मात्रा में प्रोटीन बनेगी, जो आपके किडनी को नुकसान पंहुचा देगा.

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.