Dheeraj Maurya

कारक किसे कहते हैं कारक के कितने भेद हैं

कारक से सम्बंधित प्रश्नोत्तर   कारक किसे कहते हैं ? उत्तर – संज्ञा या सर्वनाम का क्रिया से सम्बन्ध जिस रूप से जाना जाता है, उसे कारक कहते हैं। प्रश्न – कारक के कितने भेद हैं? उत्तर – हिन्दी में कारक के आठ भेद किए गए हैं – कर्ता– ने कर्म– को करण– से, के …

कारक किसे कहते हैं कारक के कितने भेद हैं Read More »

Svar aur Vyanjan वर्ण विचार स्वर और व्यंजन क्या है

वर्ण विचार हिंदी भाषा की सबसे छोटी इकाई ध्वनि होती है। इसी ध्वनि को ही वर्ण कहा जाता है। वर्णों को व्यवस्थित करने के समूह को वर्णमाला कहते हैं। हिंदी में उच्चारण के आधार पर 45 वर्ण होते हैं। इनमें 10 स्वर और 35 व्यंजन होते हैं। लेखन के आधार पर 52 वर्ण होते हैं …

Svar aur Vyanjan वर्ण विचार स्वर और व्यंजन क्या है Read More »

Pratyay kise kahte hai प्रत्यय किसे कहते है Pratyay Kya Hai

प्रत्यय किसे कहते है   परिभाषा – वह शब्दांश जो किसी शब्द के अंत में जुडकर नये शब्द का का निर्माण करता है ,उसे प्रत्यय कहते है |जैसे- समाज + इक = सामाजिक सुगन्ध + इत = सुगन्धित भूलना + अक्कड़ = भुलक्कड़ मीठा + आस = मिठास भला + आई = भलाई इसी प्रकार …

Pratyay kise kahte hai प्रत्यय किसे कहते है Pratyay Kya Hai Read More »

मन्नू भंडारी Mannu Bhandari जीवनी

मन्नू भंडारी (Mannu Bhandari) मन्नू भंडारी जन्म :3 अप्रैल 1931 मध्य प्रदेश( मंदसौर जिला मन्नू भंडारी की मृत्यु -१५ नवम्बर २०२१  मन्नू भंडारी की बचपन का नाम :महेंद्र कुमारी मन्नू भंडारी के पिता:- सुख संपत राय (जाने-माने लेखक) मन्नू भंडारी की माता:- अनूपकुंवरी मन्नू भंडारी के भाई बहन:- स्नेहा लता सुशीला प्रसन्न कुमार बसंत कुमार …

मन्नू भंडारी Mannu Bhandari जीवनी Read More »

आधुनिक काल की साहित्यिक रचनाये literary works of the modern period

आधुनिक काल की साहित्यिक रचनाये literary works of the modern period

आधुनिक काल की रचनाये अज्ञेय की रचनाये– भाग्दूत , इत्यलम , हरी घास पर क्षणभर , असाध्य वीणा ,रूपाम्बरा . श्रीधर पाठक की रचनाये– जार्ज वंदना , वनास्तक . हरिवंशराय बच्चन की रचनाये– मधुबाला , मशुशाला , मधुकलश . अयोध्यासिंह उपाध्याय हरिऔध की रचनाये– प्रियप्रवास ,वैदेही वनवास ,चोखे चौपदे ,रसकलश . जयशंकर प्रसाद की रचनाये– झरना …

आधुनिक काल की साहित्यिक रचनाये literary works of the modern period Read More »

रीतिकाल के साहित्यों के नाम names of ritual literature

रीतिकाल के साहित्यों के नाम names of ritual literature

रीतिकालीन साहित्य बोधा – विरहवारिश ,इश्कनाम चिंतामणि – कविकुल कल्पतरु ,काव्यविवेक . मतिराम – रसराज , ललितलाम भूषण – शिवराजभूषण , शिवावावनी ,छत्रसाल दशक . केशवदास – कविप्रिया ,रामचंद्रिका ,रसिक प्रिय घनानंद – सुजानहित प्रबंध ,इश्कलता . .

भक्तिकालीन साहित्य की रचनाये Works of devotional literature

भक्तिकालीन साहित्य की रचनाये Works of devotional literature

भक्तिकालीन साहित्य सूरदास – सूरदास ,सूरसारावली ,साहित्य लहरी . रसखान – प्रेमवाटिका ,दान लील मुल्ला दाउद  – चंद्रयान मलिक मुहम्मद जायसी – पद्मावत , अखरावट ,आखिरी कलाम ,चित्र लेखा कल्लोल कवि – ढोला मारू रा दूहा कुतुबन – मृगावती नाभादास – भक्तमाल उस्मान – चित्रावली कबीर – बीजक मीराबाई – पदावली मंझन – मधुमालती तुलसीदास …

भक्तिकालीन साहित्य की रचनाये Works of devotional literature Read More »

आदिकालीन साहित्य रचनाये  primitive literature

आदिकालीन साहित्य सरहपा – दोहाकोश चंदरबरदाई – पृथ्वीराज रासो शालिभद्र सुरि – भरतेश्वर ,बाहुबली रास स्वयंभू – पउम चरिउ हेमचन्द्र – शब्दनुशन दलपत विजय – खुमाण रासो शबरपा – चर्यापद मधुकर – जय्मंयक जस्चंद्रिका नरपतिनाल्ह – बीसलदेव रासो जगनिक – परमाल रासो