कारक किसे कहते हैं कारक के कितने भेद हैं

कारक से सम्बंधित प्रश्नोत्तर

 

कारक किसे कहते हैं ?

उत्तर – संज्ञा या सर्वनाम का क्रिया से सम्बन्ध जिस रूप से जाना जाता है, उसे कारक कहते हैं।

प्रश्न – कारक के कितने भेद हैं?

उत्तर – हिन्दी में कारक के आठ भेद किए गए हैं –

  1. कर्ता– ने
  2. कर्म– को
  3. करण– से, के साथ, के द्वारा
  4. संप्रदान– के लिए, को
  5. अपादान– से (पृथक)
  6. संबंध– का, के, की
  7. अधिकरण– में, पर
  8. संबोधन– हे! भो! अरे!

प्रश्न – कर्त्ता कारक किसे कहते हैं?

उत्तर – काम करने वाले को कर्त्ता कहते हैं।

जैसे –अध्यापक ने विद्यार्थियों को पढ़ाया।

इस वाक्य में ‘अध्यापक’ कर्त्ता है, क्योंकि काम करने वाला अध्यापक है।

प्रश्न – कर्म कारक किसे कहते हैं?

उत्तर – कार्य का फल अर्थात प्रभाव जिसपर पड़ता है, उसे कर्म कारक कहते हैं।

जैसे –राम ने आम को खाया।

इस वाक्य में ‘आम’ कर्म है, क्योंकि राम के कार्य (खाने) का प्रभाव आम पर पड़ा है।

प्रश्न – करण कारक किसे कहते हैं?

उत्तर – जिसकी सहायता से कोई कार्य किया जाए, उसे करण कारक कहते हैं।

जैसे –वह कलम से लिखता है।

इस वाक्य में ‘कलम’ करण है, क्योंकि लिखने का काम कलम से किया गया है।

प्रश्न – संप्रदान कारक किसे कहते हैं?

उत्तर – जिसके लिए कोई कार्य किया जाए, उसे संप्रदान कारक कहते हैं।

जैसे –मैं दिनेश के लिए चाय बना रहा हूँ।

इस वाक्य में ‘दिनेश’ संप्रदान है, क्योंकि चाय बनाने का काम दिनेश के लिए किया जा रहा।

प्रश्न – अपादान कारक किसे कहते हैं?

उत्तर – कर्त्ता अपनी क्रिया द्वारा जिससे अलग होता है, उसे अपादान कारक कहते हैं।

जैसे –पेड़ से आम गिरा।

इस वाक्य में ‘पेड़’ अपादान है, क्योंकि आम पेड़ से गिरा अर्थात अलग हुआ है।

प्रश्न – संबंध कारक किसे कहते हैं?

उत्तर – शब्द के जिस रूप से एक का दूसरे से संबंध पता चले, उसे संबंध कारक कहते हैं।

जैसे –यह राहुल की किताब है।

इस वाक्य में ‘राहुल की’ संबंध कारक है, क्योंकि यह राहुल का किताब से संबंध बता रहा है।

प्रश्न – अधिकरण कारक किसे कहते हैं?

उत्तर – जिस शब्द से क्रिया के आधार का बोध हो, उसे अधिकरण कारक कहते हैं।

जैसे –पानी में मछली रहती है।

इस वाक्य में ‘पानी में’ अधिकरण कारक है, क्योंकि यह मछली के आधार पानी का बोध करा रहा है।

प्रश्न – सम्बोधन कारक किसे कहते हैं?

उत्तर – जिस शब्द से किसी को पुकारा या बुलाया जाए उसे सम्बोधन कारक कहते हैं।

जैसे –हे राम ! यह क्या हो गया।

इस वाक्य में ‘हे राम!’ सम्बोधन कारक है, क्योंकि यह सम्बोधन है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.